Poem By A Man Wanting To Become Kejriwal

माँ मुझको तू मफलर देदे मैं सी ऍम बन जाऊंगा झाड़ू लेकर हाथो में मैं भ्रष्टाचार मिटाऊंगा माँ मुझको तू

Read more