Kalyug Ke Aulaad Ko Geeta Ka Gyaan

ullu ka patha
ये जो कुल्फी खाते हुये

एक हंथेली कुल्फी के नीचे लगाये रहते हो ना

इसे ही गीता में *मोह* बताया है.
😂😂😜😜😜
Or
और कुल्फी खतम होने के बाद भी जो डण्डी चाटते ही रहते हैं

इसे ही गीता में *लोभ* कहा है
🙏😀🙏

😂😂😜😜😜
और डण्डी फेकने के बाद , सामने वाले की कुल्फी देखकर सोचना कि उसकी खत्म क्यों नहीं हुई,

इसे गीता मे *ईष्या* कहा गया है,  ☺😂😀😌😋
और कुल्फी खतम होने से पहले डऩ्डी से नीचे गिर जाये और केवल डण्डी हाथ मे रह जाये तब तुम्हारे मन में जो आता है….                             😁  इसे ही गीता मे *क्रोध* कहा है 😳

और इसे पढ़कर जो हसी आती है उसे मोक्ष कहते है 😝
________________________________

ये जो नींद पूरी होने के बाद भी 3 घंटे तक बिस्तर पर मगरमच्छ की तरह पड़े रहते हो ना !
शास्त्रों में इसे ही *आलस्य* कहा गया है।
😜😝😂
________________________________

ये रेस्टोरेंट में खाने के बाद जो कनस्तर भरके सोंफ और मिश्री का बुक्का मारते हो ना !!
शास्त्रों में इसे ही *”टुच्चापन”* कहा है ।।
😂😝😜
________________________________

ये जो ताला लगाने के बाद उसे पकड़ कर खींचते हो ना !!

इसे ही शास्त्रों में *’भय’* कहा गया है ।।
😜😝😂
________________________________

ये जो तुम WhatsApp पर मेसेज़ भेजने के बाद
बार बार दो नीली धारियाँ चेक
करते हो ना !

इसे ही शास्त्रों में *’उतावलापन’* कहा गया है…
_______________________________

वो जो तुम गोलगप्पे वाले से कभी मिर्च वाला 🙄 कभी सूखा 😬 कभी दही वाला 😑 कभी मीठी चटनी 🙁

वाला माँगते वक़्त उसे *”भैया”* बोलती हो ना..

बस इसी को शास्त्रों में *”शोषण”* कहा गया है  😂🐶
________________________________

र्बाइक चलाते हुए जो तुम तिरछी नजरों से गुजरने वाली हर लड़की को ताड़ते हो न,

शाश्त्रों में इसे ही *छिछोरापन* कहा गया है। 😝😜😂
________________________________

फ्रूटी खत्म होने के बाद ये जो आप स्ट्रा से सुड़प-सुड़प करके आखिरी बून्द तक पीने की कोशिश करते हो न….

शास्त्रो में इसे ही *मृगतृष्णा* कहा गया है😜😜
_________________________________

ये जो तुम लोग केले 🍌 खरीदते वक्त, अंगूर 🍇 क्या भाव दिये ? बोल के 5-7 अंगूर खा जाते हो ना……शास्त्रो में इसे ही *”अक्षम्य अपराध”* कहा गया है।😂😂😜😜😜😜
________________________________

ये जो तुम.. भंडारे में बैठकर..

खाते हुए.. रायते वाले को आता देखकर..

जल्दी से.. रायता पी लेते हो….!!
.
.
शास्त्रो में.. इसे भी *छल* कहा गया है !!

😂😂😂😂😂😂😂😂😂😂

पिता : ओ बेवकूफ़।
मैंने तुमको गीता दी थी पढ़ने के लिए
क्या तुमने गीता पढ़ी ? कुछ। दिमाग मे  घुसा।

पुत्र : हाँ पिताजी पढ़ ली।
और
अब
आप

मरने के लिए तैयार हो जाओ  ( कनपटी पर तमंचा रख देता है ) ।

पिता : बेटा ये क्या कर रहे हो ? मैं तुम्हारा बाप हूँ ।

पुत्र: पिताजी , ना कोई किसी का बाप है और ना कोई किसी का बेटा । ऐसा गीता में लिखा है ।

पिता : बेटा मैं मर जाऊंगा ।

पुत्र : पिताजी शरीर मरता है ।
आत्मा कभी नही मरती!
आत्मा अजर है,
अमर है ।

पिता : बेटा मजाक मत करो गोली चल जाएगी और मुझको दर्द से तड़पाकर मार देगी ।

पुत्र : क्यों व्यर्थ चिंता करते हो ? किससे तुम डरते हो ।
गीता में लिखा है-
नैनं छिन्दन्ति शस्त्राणि,
नैनं दहति पावकः
आत्मा को ना पानी भिगो सकता है
और
ना ही तलवार काट सकती,
ना ही आग जला सकती ।
किसलिए डरते हो तुम ।

पिता : बेटा! अपने भाई बहनों के बारे में तो सोच, अपनी माता के बारे में भी सोच ।

पुत्र : इस दुनिया में कोई
किसी का नही होता ।
संसार के सारे रिश्ते स्वार्थों पर टिके है ।
ये भी गीता में ही लिखा है ।

पिता : बेटा मुझको मारने से तुझे क्या मिलेगा ?

बेटा : अगर इस धर्मयुद्ध में आप मारे गए तो आपको स्वर्ग प्राप्ति होगी ।
मुझको आपकी संपत्ति प्राप्त
होगी । अगर मर गया तो स्वर्ग प्राप्त होगा ।

पिता : बेटा ऐसा जुर्म मत कर ।

पुत्र : पिताजी आप चिंता ना करें।

जिस प्रकार आत्मा पुराने जर्जर शरीर को त्यागकर नया शरीर
धारण करती है, उसी प्रकार आप भी पुराने जर्जर शरीर
को त्यागकर नया शरीर धारण करने की तयारी करें ।

अलविदा ।

Moral-
कलयुग की औलादों को सतयुग, त्रेतायुग या द्वापर युग की शिक्षा नहीं दे…

Kalyug Ke Aulaad Ko Geeta Ka Gyaan
Rate this post